जाते हुए भी

मत जाओ दूर आँखॊं से,
अतृप्त हैं नयन हमारे।
ये दोनों दर्शन के प्यासे,
तेरी चाहत के मारे॥
ख्वाबों की कोई सीमा नहीं,
चाहतों का न कोई अन्त।
जिह्वा बीच में सिमटी हुई,
चारों ओर फैले हैं दन्त॥
सुन्दरता-कुरूपता की माप नहीं,
ये तो आँखों की चाहत है।
दिल से दिल का मामला है ये,
इसमें तो भरी नजाकत है॥

Advertisements

Tags: , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: